Sat. Apr 20th, 2024

( प्रचंड धारा ) छत्तीसगढ़ में एमए करने वालों के लिए खुशख़बरी उनको भी मिलेगी सरकारी नौकरी ।

स्कूल शिक्षा मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने आज विधानसभा में यह घोषणा की। उन्होंने कहा कि राज्य में 33 हजार शिक्षकों की भर्ती की प्रक्रिया चल रही है। इसी भर्ती में छत्तीसगढ़ भाषा में एमए करने वालों के लिए पद स्वीकृत किया जाएगा।

छत्तीसगढ़ में एमए करने वालों को भी सरकारी नौकरी मिलेगी। स्कूल शिक्षा मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने आज विधानसभा में यह घोषणा की। उन्होंने कहा कि राज्य में 33 हजार शिक्षकों की भर्ती की प्रक्रिया चल रही है। इसी भर्ती में छत्तीसगढ़ भाषा में एमए करने वालों के लिए पद स्वीकृत किया जाएगा।

शिक्षा मंत्री अग्रवाल ने यह घोषणा सदन में प्रश्नकाल के

दौरान की। छत्तीसगढ़ी भाषा में शिक्षा को लेकर कुंवर

सिंह निषाद ने प्रश्न किया था। निषाद ने छत्तीगसढ़ी में

शिक्षा दिए जाने को लेकर प्रश्न किया था। इस पर मंत्री

अग्रवाल ने बताया कि छत्तीसगढ़ी की लिपी नहीं है। अभी

हिंदी के शिक्षक की छत्तीसगढ़ी पढ़ाते हैं। उसकी अलग

से व्यवस्था करने की जरुरत नहीं है। इस पर निषाद ने

कहा कि प्राथमिक स्तर की पढ़ाई छत्तीसगढ़ी में कराने की

घोषणा की गई थी। एनसीआरटी इसके लिए तैयार है

केवल सरकार की घोषणा बाकी है

मंत्री अग्रवाल ने कहा कि हमारी सरकार केवल

छत्तीसगढ़ी नहीं बल्कि हल्बी, सरगुजिहा और सदरी

सहित अन्य स्थानीय भाषाओं में पढ़ाने की तैयारी कर रही

है। इसके लिए किताब तैयार कराया यगा है। उन्होंने कहा

कि छत्तीसगढ़ी में एमए करने वालों की इसी साल शिक्षक

के रुप में भर्ती होगी। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ी में

शिक्षा की बात भावनात्मक रुप से अच्छा है,

छत्तीसगढ़िया को आगे बढ़ाना है। इस भावना से मैं भी

सहमत हूं, लेकिन हमें अपने बच्चों का स्तर भी बढ़ाना है।

उन्हें राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतियोगिता के

लिए तैयार करना है।

शिक्षा मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने यह घोषणा सदन में प्रश्नकाल के दौरान की

छत्तीसगढ़ी भाषा में शिक्षा को लेकर कुंवर सिंह निषाद ने प्रश्न किया था। निषाद ने छत्तीगसढ़ी में शिक्षा दिए जाने को लेकर प्रश्न किया था। इस पर मंत्री बृजोमहन अग्रवाल ने बताया कि छत्तीसगढ़ी की लिपी नहीं है। अभी हिंदी के शिक्षक की छत्तीसगढ़ी पढ़ाते हैं। उसकी अलग से व्यवस्था करने की जरुरत नहीं है। इस पर निषाद ने कहा कि प्राथमिक स्तर की पढ़ाई छत्तीसगढ़ी में कराने की घोषणा की गई थी। एनसीआरटी इसके लिए तैयार है केवल सरकार की घोषणा बाकी है

मंत्री अग्रवाल ने कहा कि हमारी सरकार केवल छत्तीसगढ़ी नहीं बल्कि हल्बी, सरगुजिहा और सदरी सहित अन्य स्थानीय भाषाओं में पढ़ाने की तैयारी कर रही है। इसके लिए किताब तैयार कराया यगा है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ी में एमए करने वालों की इसी साल शिक्षक के रुप में भर्ती होगी। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ी में शिक्षा की बात भावनात्मक रुप से अच्छा है, छत्तीसगढ़िया को आगे बढ़ाना है। इस भावना से मैं भी सहमत हूं, लेकिन हमें अपने बच्चों का स्तर भी बढ़ाना है। उन्हें राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतियोगिता के लिए तैयार करना है।